Think and grow Rich by Napoleon Hill(in hindi)

  •                       Think and grow rich by Napoleon Hill

हैलो दोस्तों स्वागत है आपका आपके अपने ब्लॉग क़िताबी रंग में।दोस्तों आज हम बात करेंगे एक ऐसे बुक के बारे में जो न सिर्फ आपका नजरिया बदलेगी बल्कि आपको अमीर बनने का आईडिया भी देगी।

 इसलिए आपको ये क़िताब जरूर पढ़ना चाहिये।तो आइए बिना कोई देर किए ‘थिंक एंड ग्रो रिच'(Think and grow Rich) की कुछ महत्वपूर्ण बातें जानते है।
दोस्तों सक्सेस किसी भी प्रोफेशन या करियर में मिल सकती है . और एक अनपढ़ या कम पढ़ा लिखा इंसान भी एक अमीर बन सकता है . और ये सीक्रेट लेखक अपने रीडर्स के साथ बांटना चाहता है।
कि आखिर कैसे 500 अमीर लोगो को अपनी जिंदगी में इतनी बड़ी सफलता मिली ? और ये सीक्रेट सिर्फ उनके लिए है जो इसे जानने के लिए तैयार है . जिन्होंने ये सीक्रेट एप्लाई किया उनका अमीर बनने का सपना पूरा हुआ।
1. इस बुक के ऑथर कौन है ? 
Think and grow rich by Napoleon Hill

26 अक्टूबर 1883 में जन्मे नेपोलियन हिल (Napoleon Hill) एक अमेरिकन ऑथर थे . थिंक एंड ग्रो रिच (Think and grow Rich) आल टाइम 10 बेस्ट सेलर सेल्फ हेल्प बुक्स की लिस्ट में आती है . उनकी इस बुक ने लाखो लोगो के अमीर बनने का सपना पूरा किया है . और आज भी कर रही है

2 . ये बुक किस किसको पढनी चाहिए ? 
हर कोई इंसान जो अमीर बनने के सपने देखता है लेकिन उसे पता नहीं है कि अमीर बनने के लिए उसे क्या और कैसे करना है . इस बुक में दिए रियल लाइफ एक्सपिरियेंश प्रेक्टिकल लाइफ में काफी काम आ सकते है .

Think and grow rich by Napoleon Hill
3 . इस बुक से हम क्या सीखेंगे ?
अगर आप अपनी जिंदगी में पैसा , मान – सम्मान , पर्सनेलिटी , सुकून और ख़ुशी चाहते है तो इसका राज आप उन अमीर लोगो से जान सकते है . जैसे – जैसे आप ये तेरह स्टेप्स पार करेंगे , उस सीक्रेट के और करीब आते जायेंगे .
अब तैयार हो जाईए क्योंकि जो मौका अब आपके हाथ लगने वाला है वो आपकी लाइफ बदल कर रख देगा . नेपोलियन हिल ने हमें इस सीक्रेट का एक क्ल्यू दिया है ” सब तरक्की , सब अमीरी की शुरुवात के पीछे एक आइडिया है. तो देर किस बात की आज ही इस बुक को पढकर आप भी रिच बन सकते है |
अगर आप (Think and grow Rich) बुक की संमरी चाहते है तो कमेंट बॉक्स में हमें बातये।हम आपको इस बुक की संमरी देने की पूरी कोसिस करेगे।
मित्रों इसी के साथ अब आपसे बिदा लेते है मिलते एक नए बुक नए नज़रिये के साथ।तब तक के लिए नमस्कार।
Loading...

Leave a Reply