21 Days of Effective Communication Book summary in Hindi

How to improve communication skills

 

21 Days of Effective Communication Book summary in Hindi

About the Author:-

इयन टूहोवस्की ( lan Tuhovsky ) मेडिटेशन , साइकोलॉजी , टाइम मैनेजमेंट , इमोशनल इंटेलिजेंस और Communication स्किल्स पर लिखी बुक्स के ऑथर हैं । वे यूरोप के कई कंपनीज़ में बतौर एंटरप्रेनयोर और ह्यूमन रिसोर्स कंसल्टेंट काम करते हैं । इयन का एक ब्लॉग भी है जिसका नाम ” माइंडफुलनेस ऑफ सक्सेस ” है जहाँ वे अपने आप को बेहतर बनाने और एक बढ़िया लाइफ़ जीने के बारे में कई आइडियास शेयर करते हैं ।

What is Communication :-

Communication यानी बात – चीत हमारी सोशल लाइफ और रिलेशनशिप्स के लिए बहुत इंपॉर्टेट है । आप किसी इंसान से तभी रिलेट कर पाते हैं या रिश्ता बना पाते हैं जब आप उनसे सही तरह से कम्युनिकेट कर पाते हैं । किसी भी रिश्ते को सफल बनाने के लिए यह ज़रूरी है कि लोग आपस में कम्युनिकेट करें । Communication एक ऐसी स्किल है जो समय के साथ सीखी जाती है । यह प्रैक्टिस के साथ बेहतर होती जाती है ।

आप अपने Communication को कभी भी इंप्रूव कर सकते हैं , यह परवाह किए बिना कि आपकी उम्र , आपका सोशल स्टेटस या आपका फ़ैमिली बैकग्राउंड क्या है । किसी भी और स्किल की तरह ही , इसमें भी कमिटमेंट और हार्ड वर्क यानी कड़ी मेहनत की ज़रूरत पड़ती है । यह आसान नहीं है , लेकिन मुमकिन है ।

Communication स्किल्स तभी काम करेंगे जब हम उन्हें प्रैक्टिस में लाएंगे और अपनी रोज़ – मर्रा की लाइफ में उसका इस्तेमाल करेंगे । यह बुक आपको यह सिखाएगी की आप कैसे अपने कम्युनिकेट करने के तरीके को बदल कर उसे और बेहतर बना सकते हैं ।

Loading...

Day 1 – Listening:-

Communication का एक बहुत ही ज़रूरी पहलू है लिस्निंग यानी सुनना । आप सामने वाले इंसान से असरदार तरीक़े से बात कर पाए।इसके लिए जरूरी है कि आप में अच्छी लिस्निंग स्किल्स भी हों । लिस्निंग का यह मतलब नहीं कि आप बस चुप हो कर अपनी बात कहने के मौके का इंतज़ार करें , बल्कि इसका मतलब यह है कि आप सामने वाले को अपने दिल कि बात रखने का मौका दें ।

जब आप सुनते हैं तो आप सामने वाले इंसान को अपनी सोच , अपनी राय और अपने आइडिया रखने का मौका देते हैं । एक नामी साइकोलॉजिस्ट कार्ल रॉजर्स ( Carl Rogers ) का यह मानना है कि जब हम किसी को अपनी फीलिंग्स के बारे में बात करने का मौका देते हैं तो उनके सोच और व्यवहार यानी में बदलाव आ जाते हैं ।

हम अपने problem पर बेहतर तौर पर काम कर के उन्हें तब सॉल्व कर पाएंगे जब हम किसी ऐसे इंसान से बात करें जो हमें अच्छी तरह सुन और समझ सकता हो । अगर सामने वाले इंसान के आइडियास हमें बेकार लगें तो भी यही अच्छा होगा कि हम एक बार उनकी बातों को सुन ज़रूर लें । इफेक्टिव लिस्नर बनने के लिए यह ज़रूरी है कि हम शांत रह कर दूसरों को उनकी बात बोलने का मौका दें । दूसरों की ओर सबर और समझ दिखा कर हम उन्हें यह मौका देते हैं कि वे अपनी प्रॉब्लम्स को हैंडल और उन्हें सॉल्व करने के नए तरीकों को ढूंढ़ सकें ।

आप बेहतर लिस्नर कैसे बन सकते हैं ? बेहतर लिस्नर बनने के लिए आप यह कर सकते हैं कि जब सामने वाला बात कर रहा हो तो आप उन्हें हिम्मत देने के लिए यह दिखा सकते हैं कि आप उनकी बातों को अच्छी तरह सुन रहे हैं । सिर हिलाने या बात में दखल न देने वाले शब्द जैसे की ” अच्छा ” का यूज़ करने से आप सामने वाले को यह एहसास दिला सकते हैं कि आप उनकी बातों पर ध्यान दे रहे हैं ।

ऐसा करने से आप उन्हें और हिम्मत देते हैं जिससे वे अपने मन की बात कर पाते हैं । सामने वाले को एक साथ अपनी सारी बातें बोलने का मौका देने से भी आप अच्छे लिस्नर बन सकते हैं । यह तरीका तब ज़रूर काम आता है जब सामने वाला बहुत गुस्से में हो और वह सिर्फ यह चाहता हो कि कोई उसकी बात सुने । ऐसा करने से उसका गुस्सा कम होगा और वह इंसान शांत हो जाएगा ।

जब कोई इंसान आपसे इंफॉर्मेशन शेयर करता है तो आप उन्हें जज करते हैं और यह अंदाज़ा लगाते हैं कि वो इस वक्त कैसी हालात से गुज़र रहा है । सामने वाला कैसी सिचुएशन एक्सपीरिएंस कर रहा है यह समझने के लिए आप अपने मन में उसे लेकर कई बार थियोरीज़ बनाते हैं ।

Loading...

यह आपकी ओर से एक गलती है । जब सामने वाले इंसान को यह पता चलेगा की आप उन्हें जज कर रहे हैं यानी उन्हें लेकर अपने मन में कोई राय बना रहे हैं तब उन्हें यह बात अच्छी नहीं लगेगी । आपको सलाह देने से ख़ुद को रोकना चाहिए , जब तक कि सामने वाला ख़ुद एडवाइस ना मांगे । आपको सामने वाले को यह भी नहीं कहना चाहिए कि आप समझ सकते हैं कि वे किस दौर से गुज़र रहे हैं , क्योंकि आप सच में यह बात नहीं समझ सकते ।


ऐसा हो सकता है कि आप भी उन की सिचुएशन से मिलती – जुलती सिचुएशन से पहले कभी गुज़रे हों लेकिन यह ज़रूरी नहीं कि आपके रिएक्शन भी उनके जैसे होंगे । हमारे स्भाव , इमोशंस , पिछले एक्सपीरिएंस , और फैमिली बैकग्राउंड एक दूसरे से अलग होते हैं । जब कोई आप से सलाह मांगे तो आपको यह सोचना चाहिए कि वह इस पर कैसे रिऐक्ट करेगा और यह समझना चाहिए कि आपको कब रुकना है ।

इसे भी पढ़े-Retire Young Retire Rich Book Summary in Hindi


सामने वाले की बॉडी लैंग्वेज आपको यह बता सकती है कि उन्होंने आपकी दी हुई एडवाइस पर कैसे रिऐक्ट किया है । तब आप यह बता सकते हैं कि आपकी एडवाइस अच्छी तरह से ली गई है या नहीं , और इससे यह समझ सकते हैं कि आपको कब रुकना चाहिए । जब भी आप किसी को सलाह दें तो आपको यह समझना चाहिए कि सामने वाला आपकी सलाह ले सकता है या लेने से मना कर सकता है ।

आपको यह बात साफ़ – साफ़ समझना चाहिए कि उनके डिसीजन में आप को दख़ल नहीं देना चाहिए । लिस्निंग स्किल्स की प्रैक्टिस कैसे करें ? अगर आप यह जानना चाहते हैं कि आपकी लिस्निंग स्किल्स कितनी अच्छी हैं तो आप किसी ऐसे दोस्त या रिश्तेदार को कॉल कर सकते हैं जिनसे आपने लंबे समय से बात ना की हो । 20 मिनट की फ़ोन कॉल को यूज़ करके आप यह measure कर सकते हैं कि आप दूसरों की बातों को कितने अच्छे से सुन सकते हैं और यह मौका आप उस इंसान से अपना रिश्ता सुधारने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं । आप इसे रेगुलर प्रैक्टिस से और बेहतर बना सकते हैं ।

Day 2 – Avoid interrupting:-

आपको ऐसे किसी इंसान से बात करते हुए कैसा लगता है जो आपको बात के बीच में टोकता रहता है ? ऐसे इंसान से चिढ़ होना नेचुरल है । सामने वाले को भी ठीक ऐसा ही फ़ील होता है जब आप उनके साथ ऐसा करते हैं । जब आप किसी से बहस कर रहें होते हैं तब आप सामने वाले की बात को काट कर अपनी बात रखते हैं ताकि आपकी आवाज़ सुनी जाए।

या जब आप किसी ऐसे टॉपिक पर डिस्कस कर रहे हों जिसे लेकर आप बहुत पैशनेट हैं , तब भी आपको सामने वाले की बात काट कर अपनी बात बताने का बहुत मन करता होगा । सामने वाले की बात काट कर आप उन्हें गैर ज़रूरी महसूस कराते हैं । उन्हें यह भी लग सकता है कि आप उन्हें वह ध्यान नहीं दे रहें जिसके वे हकदार हैं । उन्हें यह लगेगा कि उनके आइडिया आपके आइडिया से कम इंपॉर्टेट हैं , जिससे आपके रिश्ते पर एक नेगेटिव असर पड़ सकता है ।

अगर आप बार – बार किसी को टोकते रहेंगे तो वे ठीक से सोच भी नहीं पाएंगे । उन्हें यह लगेगा कि आप उन पर अपने आइडिया थोप रहे हैं जिनमें वे डूब जाएंगे । आप दूसरों को इंटेरप्ट करना कैसे अवॉइड कर सकते हैं ? आप अपने कम्युनिकेशन को सुधारने के लिए डेली टारगेट सेट कर सकते हैं जिसे पूरा करने पर आप अपने आप को ईनाम देंगे , जैसे कि पूरे दिन बिना दूसरों को टोके बात करने पर ।

Loading...

आप स्टिकी नोट्स पर यह बात लिख कर इसका इस्तेमाल करके अपने आप को दिन भर याद दिला सकते हैं । इन नोट्स को आप अपने डेस्क , कंप्यूटर या लॉकर पर लगा सकते हैं ताकि आप हमेशा खुद को यह याद दिला कर अपने Communication को इंप्रूव करते रहें । किसी मीटिंग को अटेंड करने से पहले आप नोट्स बना सकते हैं जिसमें आप अपनी सारी बातों को लिख लें ताकि आप दूसरों को उनकी बात बोलते वक्त ना टोकें ।

जब कोई इंसान किसी बारे में बात कर रहा हो या कुछ सिखा रहा हो तब आपको यह ज़रूरत महसूस हो सकती है कि आप उसी वक्त उन्हें रोक कर बातें clarify कर लें । इसे अवॉइड करने के लिए आप उन सारी बातों को कहीं नोट कर सकते हैं जिन्हें आप पूछना चाहते हैं और जब सामने वाला अपनी बात पूरी कर ले तब आप एक साथ उन सभी सवालों को पूछ सकते हैं ।

आपको यह बात हमेशा याद रखनी चाहिए कि आपका चुप रहना आपके बात करने जितना ही पावरफुल है । चुप रह कर दूसरों को अपनी बात पूरी करने देने से लोग आपकी इज्ज़त करेंगे । दूसरों के बात करने पर बार बार उन्हें टोकने को इस चीज़ की निशानी समझी जा सकती है कि आप ख़ुद को उनसे इन्फिरियर या कमतर समझते हैं । बार बार टोकने से लोग यह समझेंगे की आप यह जताना चाह रहे हैं कि आपके पास भी अच्छे आइडिया हैं ।

इसे inferiority complex कहा जाता है , और अगर आपको यह प्रॉब्लम है तो आप किसी प्रोफेशनल काउंसलर ( professional counselor ) से मदद ले सकते हैं । अलग अलग लोग टोकने को अलग अलग तौर पर लेंगे , यह इस पर डिपेंड करता है कि ऐसा करना उनके कल्चर में कैसा माना जाता है । जैसे कि वेस्टर्न कल्चर में इसे बदतमीज़ी समझा जाता है लेकिन इटालियन कल्चर में टोकने को यह समझा जाता है कि आप सामने वाले की बातों में इंटरेस्ट ले रहे हैं ।

जापानी कल्चर में आप बिना किसी दिक्कत के अपने डाउटस क्लियर ( clear ) करने के लिए सामने वाले को टोक सकते हैं । इसलिए यह बेहतर होगा कि आप यह पता करें की सामने वाला किस कल्चर से ताल्लुक रखता है ताकि आप यह जान सकें कि वे टोकने को कैसा समझते हैं ।


Day 3 – Be an inclusive communicator:-


इफेक्टिव तरीके से कम्युनिकेट करने के लिए आपको उन लोगों की तारीफ़ भी करनी चाहिए जो दूसरों से अलग हो या जिनके सोच विचार बाकियों से हट कर हो । र इंसान के ओपिनियन और आइडिया ज़त के काबिल होते हैं । एक इफेक्टिव कम्युनिकेटर होने के नाते आपको अपने सर्कल में मौजूद हर इंसान को अपने बीच शामिल करना चाहिए , यह परवाह किए बिना कि वे किस कल्चरल बैकग्राउंड से नाता रखते हैं।

इन्क्लूसिव Communication यानी ऐसी बातचीत जिसमें सबको शामिल किया जाए , हर तरह के रिश्तों के लिए अहम है , भले ही वे बिजनेस से रिलेटेड हो या फैमिली से ।

Loading...

सक्सेसफुल इन्क्लूसिव Communication के लिए टिप्स :-

इन्क्लूसिव Communication की कामयाबी के लिए आपको लोगों के कैरेक्टर के बेकार पहलुओं को चुनना अवॉइड करना चाहिए ।सिर्फ उसी पहलू के बारे में बात करना चाहिए जो कि सिचुएशन को सूट करता हो । लोगों के सेक्शुअल ओरिएंटेशन उन्हें डिस्क्राइब करने के लिए इस्तेमाल करने से बचना चाहिए । जैसे कि मिसाल के तौर पर आपकी टीम में एक नया गे ( gay ) स्टाफ मेंबर शामिल हुए हो , तो आपको उनके बारे में बताने के लिए ” गे ” शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि वह इस सिचुएशन में सूट नहीं करता ।

इसी तरह विकलांग यानी कि disabled लोगों को उनकी disability से डिस्क्राइब करना भी सरासर ग़लत है । किसी dusable इंसान को उनकी कमियों से बुलाना गलत है , इसके अलावा किसी को कुछ और तकलीफ हो जैसे कि डिप्रैशन तो उन्हें डिप्रेसिव या देवदास ऐसे नामों से बुलाना भी ग़लत है । अच्छे कम्युनिकेशन के लिए ज़रूरी है कि आप लोगों की जाती , धर्म वगैरा का भी खयाल रखें और उनकी पहचान को लेकर अपने मन में कोई ग़लत राय ना बनाएं । आपको यह हरगिज़ नहीं मानना चाहिए कि कोई किसी एक तरह के देश या जाति से नाता रखता है तो वह अच्छा या बुरा होगा ही होगा। ऐसा करने यह जाहिर होगा की आप लोगो के इंडिविसुअल पेर्सिनोलिटी को एप्रिशिएट या उनकी सरहाना नही करते।

इन्क्लूसिव Communication के लिए आपको ऐसे शब्द या स्लैंग भाषा का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए जो कि किसी इंसान या ग्रुप की भावनाओं को ठेस पहुंचा सकती हो ।

आप अपनी Communication स्किल्स यूट्यूब पर विडियोज देख कर सुधार सकते हैं जहां दो या दो से ज़्यादा लोग डिस्कशन कर रहे हों । उनके डिस्कशन को देखकर ऐसे किसी इंसान को देखिए जो दूसरों के लिए पुरानी और घिसी पिटी सोच रखता हो और उनसे खुद की तुलना करके यह देखिए की क्या आप भी उन जैसे हैं ।

Day 4 – Expand your vocabulary:-

आप अपने शब्दों को कितने अच्छे से जानते हैं ? Communication प्रोसेस में कई तरह के वर्ड्स का आना और उन्हें सही जगह पर इस्तेमाल करना आना बहुत ज़रूरी माना जाता है । कई तरह के वर्ड्स की नॉलेज होने को इंटेलिजेंट और वैल एजुकेटेड होने से जोड़ा जाता है । यह आपको एक बेहतर कम्युनिकेटर बनाता है । अलग अलग वर्ड्स की अच्छी नॉलेज आपको पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में बढ़ने में मदद करेगी ।

जॉन ‘ ओ ‘ कॉनर ( John O ‘ Conner ) ने यह पता लगाया है कि जिन लोगों को शब्दों कि ज़्यादा जानकारी होती है , उन्हें काम में टॉप पोजिशन में रहने का मौका मिलता है और वे ज़्यादा सक्सेसफुल होते हैं । अच्छी कम्युनिकेशन इस बात पर भी डिपेंड करती है कि आपको कितने वर्ड्स की जानकारी है और उन्हें कब , कहां और कैसे इस्तेमाल किया जाए इस चीज़ की भी जानकारी है । Communication किसी भी कामयाब रिलेशनशिप का आधार है ।

जब आपको ज़्यादा वर्ड्स की जानकारी होगी तब आप अपने मन की बात बेहतर तौर पर एक्सप्रेस कर पाएंगे और नए आइडियास आसानी से समझ पाएंगे । शब्दों की अच्छी जानकारी होने से आप लिखने और पढ़ने के ज़रिए लोगों से बेहतर तरीके से कम्युनिकेट कर पाएंगे और बेहतर और मज़बूत रिश्ते बना पाएंगे ।

वोकैबुलरी एक मज़बूत प्रोफेशनल बैकग्राउंड बनाने के लिए भी ज़रूरी है । अपनी वोकेबुलरी को कैसे सुधारें ? आप वर्ड्स को लेकर अपनी नॉलेज को हर रोज़ कुछ नए वर्ड्स सीख कर और बेहतर कर सकते हैं । आप हर रोज़ कुछ नए वर्ड्स सीख कर उसे दिन भर में लोगों से बात करते वक्त यूज़ करने को अपना डेली रूटीन बना सकते हैं ।

Loading...

इन नए वर्ड्स के बारे में और इनके मीनिंग को आप अपने दोस्तों को भी बता सकते हैं । आप बुक्स पढ़कर भी वोकैबुलरी को बेहतर बना सकते हैं । हर रोज़ आप कोई नई या ज़्यादा चैलेंजिंग बुक पढ़ सकते हैं । अपने डेली शेड्यूल में से कुछ समय आप नए वर्ड्स को सीखने और उनके मतलब को समझने में बिता सकते हैं । अगर कोई आपके सामने नया शब्द यूज़ करे जिसे आपने पहले कभी ना सुना हो तो आपको सामने वाले से हमेशा इस बारे में पूछ लेना चाहिए ।

पूछने का यह मतलब नहीं होता कि आप बेवकूफ़ हैं , इसका मतलब यह होता है कि आप कुछ नया सीखने की इच्छा रखते हैं । आप उस नए शब्द को कहीं लिख कर रख सकते हैं जिससे की आप बाद में उसे डिक्शनरी में ढूंढ़ सकें ।

Day 5 – Choose your words wisely:-

कुछ शब्द जो आप कम्युनिकेट करते वक्त यूज़ करते हैं वे आपके लिए बाधा बन सकते हैं । Communication  को बेहतर बनाने के लिए आपको ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करना अवॉइड करना चाहिए जिनसे आप पर नेगेटिव असर हो सकता हो । आपको पॉज़िटिव तरीके से कम्युनिकेट करना शुरू करना चाहिए ।

ऐसा करने से आप चीज़ों को एक नए नज़रिए से देखना शुरू कर देंगे , जो चीजें आपको पहले रुकावट जैसी दिखाई देती थीं वे अब आपको नए मौकों की तरह दिखने लगेंगी । जब आप ” लेकिन ” जैसे शब्दों का इस्तेमाल अपने सेंटेंस में करेंगे तो इससे आपके सेंटेंस का पूरा मतलब बदल सकता है । आप अपने पोटेंशियल को कम बताते हुए बहाने देने लगते हैं । मिसाल की तौर पे अगर आप यह कहें की आपको छुट्टियों पर जाना अच्छा लगता है लेकिन आपको उड़ने से डर लगता है ।

इससे यह पता चलता है कि आपका उड़ने को लेकर डर आपको छुट्टियां एन्जॉय करने से रोक रहा है । जब आप इस ” लेकिन ” को ” और ” से बदल देंगे तो आपके स्टेटमेंट का पूरा मतलब बदल जाएगा । जब आप यह बोलते हैं कि आपको छुट्टियों पर जाना अच्छा लगता है और आपको उड़ने से डर लगता है , तो इससे यह पता चलता है कि यह डर आपको छुट्टियां एन्जॉय करने से नहीं रोक सकता ।

आप फिर भी छुट्टियों में एन्जॉय करने के लिए बाकी की चीजें कर सकते हैं या सबसे बेस्ट यह कि आप अपने डर पर काबू पा सकते हैं । इसी तरह से आप ” अब तक ” का इस्तेमाल कर सकते हैं । अब तक लगाने से यह साबित होता है कि आप में अभी भी उम्मीद बाकी है और आप किसी चीज़ को अभी भी पा सकते हैं ।

Loading...

जब आप कहते हैं कि आप अब तक सक्सेसफुल नही हुए हैं तो इसका यह मतलब बनता है कि आप सक्सेसफुल बनने के प्रोसेस में हैं लेकिन जब आप यह कहते हैं की आप सक्सेसफुल नहीं है तो इसका यह मतलब बनता है कि आपने अपने सक्सेसफुल होने की सारी उम्मीद खो दी है । आप पॉज़िटिव सेल्फ – टॉक की प्रैक्टिस अपने सेंटेंस और लाइफ दोनों से सभी ” लेकिन ” को बदलकर कर सकते हैं ।

यह करने से आपको पता चलेगा की आप पहले से ज़्यादा पॉज़िटिव बन गए हैं और आप में अब ज़्यादा कॉन्फिडेंस भी आ गया है , और साथ ही साथ आप दूसरों को भी इंस्पायर करने लगे हैं । आपको अपनी लाइफ की सभी नामुमकिन लगने वाली चीजो को ” अब तक ” से बदल देना चाहिए ।

Day 6 – Watch your pronouns:-


अपने बारे में बात करना अच्छा लगता है , है ना ? हम अक्सर किसी भी बातचीत में ” मैं ” का इस्तेमाल करते हैं और ऐसा करना नेचुरल है क्योंकि हम इंसान हैं । मगर हमें इफेक्टिव तरीके से कम्युनिकेट करने के लिए बैलेंस बनाना आना चाहिए ताकि सामने वाले को भी यह लगे की उसका सम्मान और उसकी तारीफ़ की जा रही है ।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के द्वारा की गई एक रीसर्च से यह बात सामने आई है कि घमंड और अपने बारे में बातें करना आपस में जुड़े हुए हैं । इस रीसर्च में 24 आदमियों और औरतों को अपने पसंद के टॉपिक पर बात करने का मौका दिया गया और उनकी बातों को रिकॉर्ड किया गया । रिसर्चर्स ने उन recordings को सुना और यह पता किया कि जिन लोगों ने अपनी बातों में ” मैं ” का इस्तेमाल ज़्यादा किया , उनमें बाकियों से ज़्यादा अहांकार देखा गया है।

आपको खुद को ” मैं ” का यूज़ करना नॉर्मल लगता होगा मगर इससे बाकियों को आप सेलफिश और घमंडी नज़र आएंगे । जब आप किसी problem के बारे में बात कर रहे हों , तब आपको ” मैं ” का इस्तेमाल करना चाहिए , या जब भी आप किसी को लेकर अपनी निराशा ज़ाहिर करते हैं तब भी आपको ” मैं ” का इस्तेमाल करना चाहिए ।

मिसाल के तौर पर अगर आप अपने रूममेट से निराश हों , कि वे अपने काम काज को नहीं करते तो आपको ऐसी सिचुएशन में ” तुम ” या ” आप ” की जगह ” मैं ” का यूज़ करना चाहिए क्योंकि अगर आप ” तुम ” या ” आप ” का यूज़ करेंगे तो ऐसा लगेगा कि आप उन पर इल्ज़ाम लगा रहे हैं । आप उन्हें यह बोल सकते हैं कि ” मैं यह मानता हूं कि हमें अपनी जगह को साफ़ रखना चाहिए और अपने सारे काम काज पूरे करने चाहिए “।

इसे भी पढ़े-Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi|रिच डैड पुअर डैड


ऐसा करने से आपके रूममेट को अपनी गलती का एहसास होगा और उन्हें यह भी महसूस नहीं होगा कि आप उन पर इल्ज़ाम लगा रहे हैं । जब आप किसी कॉन्ट्रोवर्शियल या विवाद पैदा करने वाले टॉपिक पर बात कर रहे हों तब आपको ” हम ” की जगह ” मैं ” का इस्तेमाल करना चाहिए ।

धर्म और पॉलिटिक्स जैसे टॉपिक काफ़ी सेंसिटिव होते हैं , इसलिए इनके बारे में बात करते वक्त आपको ” मैं ” का ही इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि ऐसे टॉपिक पर आप दूसरों की तरफ से बात नहीं कर सकते । आपके ऐसा करने से यह लगेगा कि आप उन लोगों को भी ऐप्रिशिएट कर रहे हैं जिनके सोच विचार आपसे नहीं मिलते ।

अपने कम्युनिकेट करने के तरीकों को आप ” हम ” जैसे शब्दों को अपना कर और असरदार बना सकते हैं । जब आप ” हम ” का यूज़ करते हैं तो इससे unity और टीम वर्क झलकती है । इससे यह लगता है कि आप अपने ग्रुप में मौजूद सभी लोगों को ऐप्रिशिएट कर रहे हैं जब आप किसी ऐसी चीज़ के बारे में पूछ रहे हों जिनमें बाकी लोग भी शामिल हैं तब भी आपको ” हम ” का इस्तेमाल करना चाहिए ।

Day 7 – Offer a helping hand:-


Communication का एक ज़रूरी पहलू दूसरों की मदद करना भी है । जब आपको किसी की मदद करनी हो तो आपको इस चीज़ का खयाल रखना होगा कि सामने वाला आपके सामने अपने आप को कम ना समझे । अच्छी तरह से मदद करने के लिए आपको सामने वाले को अपने मदद करने के इरादे के बारे में बताना चाहिए । ऐसा करना से आप यह जताएँगे कि आप सामने वाले की मदद सच में करना चाहते हैं ।

मिसाल के तौर पर अगर आपका कोई दोस्त अभी अभी नए घर में शिफ्ट हुआ हो और उसे मदद की ज़रूरत हो तब आपको उससे यह पूछने के बजाए कि उसे आपकी हेल्प चाहिए या नहीं , आपको यह दिखाना चाहिए कि आप ख़ुद उसकी मदद करना चाहते हैं । सामने वाले को पूछिए कि आप उनके किस काम आ सकते हैं ।

अपना पॉइंट साफ़ तौर पर उनके सामने रखें कि आप उनकी मदद किस तरह से करना चाहते हैं । इससे यह दिखाई देगा कि आप उनकी मदद करने में इंटरेस्टेड हैं । मिसाल के तौर पर अगर आपके किसी दोस्त के घर पर कोई बीमार बच्चा हो तो आप उन्हें यह बोलिए कि आप उनके लिए घर का सामान खरीद कर ला सकते हैं या घर के बाकी कामों को कर सकते हैं , ना कि यह की उन्हें जब कभी आपकी मदद चाहिए हो तो वे आपको कॉल कर सकते हैं ।

जब भी आप किसी की मदद करने के लिए उनसे पूछते हैं तो आपका मक़सद यह होना चाहिए कि आपको सिचुएशन बदलना ही न कि उस इंसान के चरित्र को। अगर आपका कोई दोस्त लगातार लेट होने की वजह से अपनी जॉब खो देता है तो आपको उसकी नई जॉब तलाश करने में मदद करनी चाहिए , ना कि उन्हें उनकी गलतियां गिनाना चाहिए ।

जब भी आप किसी को पैसे दे कर उनकी मदद करते हैं तो आपको यह बात अपने मन में अच्छी तरह सोच लेनी चाहिए कि अलग अलग लोग पैसे लेने को अलग अलग नज़रिए से देखते हैं । इसलिए अगर आपका कोई दोस्त आपसे पैसे लेने से इंकार कर दे तो आपको इसका बुरा नहीं लगना चाहिए , क्योंकि हो सकता है उनकी सोच में पैसे लेने को अच्छा नहीं समझा जाता हो । आप किसी दूसरी तरह से उनकी मदद कर सकते हैं जिससे उनका पैसों को लेकर तनाव यानी फाइनेंशियल बोझ कम हो जाए।

Conclusion:-


हमने यह सीखा की Communication हमारे डेली लाइफ़ में कितना ज़रूरी है । हम सभी लोग असरदार तरीके से कम्युनिकेट करने की एक नेचुरल काबिलियत के साथ पैदा हुए हैं लेकिन कभी कभार हमारी परवरिश हमारे कम्युनिकेशन में दख़ल दे सकती है । लेकिन अब आप अपने आप को इफेक्टिव या असरदार तरह से कम्युनिकेट करने के लिए ट्रेन कर सकते हैं , बिना यह चिंता किए कि आपका कैरेक्टर टाइप कैसा है ।

इस बुक से हमने Communication के कई पहलुओं को समझा और सीखा जैसे कि दूसरों की बात सुनना ( लिस्निंग ) , लोगों को टोकने से बचना , अपने कम्युनिकेशन में सभी लोगों को शामिल करना , अपनी वोकैबुलरी को बढ़ाना , सही वर्ड्स का चुनाव करना , और दूसरों को मदद ऑफर करना ।

हमने यह भी सीखा की Communication एक ऐसी स्किल है जिसे कोई भी सीख सकता है , और यह प्रेक्टिस करने से और बेहतर होती जाती है । यह बात याद रखें कि अपने Communication को असरदार बनाकर अपने रिलेशनशिप को बेहतर बनाने के लिए अभी देर नहीं हुई है । आपके शब्द आपके विचार और ऐटिट्यूड का आइना होते हैं ।

Loading...

Leave a Reply