[लता मंगेशकर] Lata Mangeshkar Biography in Hindi: आयु ,परिवार,निधन,नेटवर्थ, जीवन परिचय

चर्चा में क्यों

देश की मशहूर गायिका और स्वर कोकिला से जाने जानी वाली लता मंगेशकर का निधन हो गया है। उनके निधन से बॉलीवुड इंडस्ट्री में शोक की लहर है। राजनीतिक दलों से लेकर बॉलीवुड से जुड़े दिग्गजों ने उनके निधन को अपूर्णीय क्षति बताया है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट करके ये जानकारी दी। बीते दिन उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया था, जिसके बाद उन्हें आईसीयू से वेंटिलेटर में रखा गया था।

रविवार को शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि महान गायिका लता मंगेशकर का निधन हो गया है। डॉक्टरों ने इससे पहले शनिवार को जानकारी दी थी कि लता मंगेशकर को स्वास्थ्य स्थिर होने के बाद वेंटिलेटर से आईसीयू शिफ्ट किया गया था लेकिन अचानक बीते रोज उनकी सेहत बिगड़ने लगी, जिसके बाद उन्हें फिर वेंटिलेटर पर रखा गया था। रविवार सुबह उन्होंने अस्पताल में ही आखिरी सांस ली

28 सितंबर 1929 को इंदौर, भारत में महान गायिका लता मंगेशकर (Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar) का जन्म हुआ। उन्होंने एक हजार से अधिक हिंदी फिल्मों में गाने रिकॉर्ड किए हैं, साथ ही कई सारे गानों का संगीत निर्देशन भी किया है, वह भारत में सबसे प्रसिद्ध और सबसे सम्मानित पार्श्व गायकों में से एक हैं। उनकी लोकप्रियता का मुख्य कारण उनकी मधुर और मनोरम आवाज है। आइए इस लेख में जानते है उनके महान सफर के बारे मे।

[लता मंगेशकर] Lata Mangeshkar Biography in Hindi: आयु ,परिवार,निधन,नेटवर्थ, जीवन परिचय
[लता मंगेशकर] Lata Mangeshkar Biography in Hindi: आयु ,परिवार,निधन,नेटवर्थ, जीवन परिचय

Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar (महान पार्श्व गायिका लता मंगेशकर) जी ने 1942 में, मात्र 13 साल की उम्र में ही अपना करियर शुरू किया। विभिन्न भारतीय भाषाओं में लगभग 30,000 से अधिक गाने गाए। उन्हें भारतीय सिनेमा की महानतम गायिकाओं में से एक माना जाता है। 2001 में, भारत सरकार ने उन्हें भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया।

नामलता मंगेशकर
वास्तविक नामहेमा मंगेशकर
निक नाममेलोडी की रानी, भारत की गान कोकिला, लता दीदी
जन्म तिथि28 सितंबर 1929
उम्र92 वर्ष (2022 तक)
जन्म स्थानइंदौर, भारत
वर्तमान निवासमुंबई, भारत
राष्ट्रीयताभारतीय
माता-पिता– दीनानाथ मंगेशकर (पिता)
– शेवंती मंगेशकर (माँ)
भाई – बहनमीना, आशा, उषा और हृदयनाथ
राशि चक्रतुला
प्रोफेशनपार्श्व गायक, संगीत निर्देशक, निर्माता
वैवाहिक स्थितिअविवाहित
नेट वर्थ$15 मिलियन (111 कोटी INR)
पुरस्कार– राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार
– बीएफजेए पुरस्कार
– सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार
– फिल्मफेयर विशेष पुरस्कार
– फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
सम्मान– पद्म भूषण (1969)
– दादा साहब फाल्के पुरस्कार (1989)
– महाराष्ट्र भूषण (1997)
– पद्म विभूषण (1999)
– भारत रत्न (2001)
– लीजन ऑफ ऑनर (2007)

लता मंगेशकर आयु, परिवार, प्रारंभिक जीवन और शिक्षा | Lata Mangeshkar Age, Family, Early Life and Education

प्रसिद्ध पार्श्व गायिका लता मंगेशकर (Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar) जी को उनकी विशिष्ट आवाज और मुखर रेंज के लिए जाना जाता है, जो तीन से अधिक सप्तक तक फैली हुई है। 28 सितंबर 1929 को इंदौर, भारत में जन्मी लता दीदी (Lata Didi) अपने पांच भाई-बहनों में सबसे बड़ी थी। उनके पिता पंडित दीनानाथ मंगेशकर मराठी रंगमंच में एक प्रसिद्ध व्यक्तित्व थे, जिन्हें मास्टर दीनानाथ के नाम से जाना जाता था। उनकी माँ का नाम शेवंती था।

लता दीदी (Lata Didi) को उनके परिवार वालों ने कम उम्र में ही संगीत से परिचित कराया गया था। मात्र 13 साल की उम्र में, उन्होंने वसंत जोगलेकर की मराठी फिल्म “किती हसाल (Kiti Hasaal)” के लिए अपना पहला गाना रिकॉर्ड किया।

Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar का वास्तविक नाम “हेमा” था। उनके माता-पिता ने बाद में, उनके पिता के नाटक “भावबंधन” में महिला चरित्र लतिका के नाम पर उनका नाम “लता “रखा। जन्म क्रम में उनके भाई-बहनों के नाम मीना, आशा, उषा और हृदयनाथ हैं, और वे सभी कुशल गायक और संगीतकार हैं। उनके शैक्षिक करियर के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है लेकिन उन्होंने ये बात साबित की है, कि केवल डिग्री ही कमाने का जरिया नहीं है। संगीत की पहली शिक्षा उन्हें अपने पिता से मिली। जब वह पांच साल की थी, तब उन्होंने अपने पिता के संगीत नाटकों में एक अभिनेत्री के रूप में काम करना शुरू कर दिया था।

लता दीदी का गायन करियर और उनकी संगीत यात्रा | Lata Didi Singing Career and her Musical Journey

Singer-Lata-Mangeshkar-Siblings-Childhood

अपने छह दशक से अधिक के करियर में, वह बॉलीवुड की प्रमुख नायिकाओं के लिए गायिका रही हैं। इसमें कोई शक नहीं है, कि इनका भारतीय फिल्म संगीत पर अभूतपूर्व प्रभाव पड़ा। लता दीदी (Lata Didi) ने 1942 से अपने मनोरम कौशल से संगीत की सीमाओं को आगे बढ़ा रही है।

1940 और 50 के दशक में लता दीदी का प्रारंभिक करियर | Early Career of Lata Didi in the 1940s and 50s

लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) जब 13 साल की थीं, तब उनके पिता का दिल का दौरा पड़ने से निधन (1942 में) हो गया। उस वक्त “नवयुग चित्रपट” फिल्म कंपनी के मालिक मास्टर विनायक (विनायक दामोदर कर्नाटकी) ने उनकी देखभाल की। मास्टर विनायक मंगेशकर परिवार के करीबी दोस्त थे, इसलिए उन्होंने लता दीदी (Lata Didi) को एक गायक और अभिनेत्री के रूप में अपना करियर शुरू करने में मदद की।

लता दीदी (Lata Didi) ने 1942 में, “नाचू या गडे, खेळू सारी मनी हौस भारी” गीत गाया, जिसे सदाशिवराव नेवरेकर ने वसंत जोगलेकर की मराठी फिल्म “किती हसाल” के लिए संगीतबद्ध किया था, लेकिन गाने को फाइनल कट से हटा दिया गया। नवयुग चित्रपट की एक मराठी फिल्म “पहली मंगळा-गौर” में विनायक द्वारा उन्हें एक छोटी भूमिका भी प्रदान की गई थी, जिसमे उन्होंने “नताली चैत्रची नवलई” गाना गाया था, जिसकी रचना दादा चांदेकर ने की थी। 1943 में, मराठी फिल्म “गजाभाऊ” के लिए लता दीदी ने “माता एक सपूत की दुनिया बदल दे तू” गाना गया, जो हिंदी में उनका पहला गाना था।

एक किशोरी के रूप में, उन्होंने काफी संघर्ष किया और अपने परिवार का समर्थन किया। 1940 के दशक के हिंदी फिल्म उद्योग में, उन्होंने एक पार्श्व गायिका के रूप में खुद को स्थापित किया। लता दीदी (Lata Didi) 1945 में मुंबई चली गईं, जब मास्टर विनायक की कंपनी ने अपना मुख्यालय वहां (मुंबई में ) स्थानांतरित किया। उन्होंने भिंडीबाजार परिवार के “उस्ताद अमन अली खान” से हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेनी शुरू की।

उन्होंने वसंत जोगलेकर की हिंदी फिल्म “आप की सेवा में” (1946) के लिए “पा लगून कर जोरी” गीत गाया, जिसे दत्ता दावजेकर ने संगीतबद्ध किया था। इस फिल्म में “रोहिणी भाटे” ने नृत्य किया था, जो बाद में एक प्रसिद्ध शास्त्रीय नृत्यांगना बनीं। इसके अलावा, लता दीदी और उनकी बहन आशा जी ने मास्टर विनायक की पहली हिंदी फिल्म “बड़ी माँ (1945)” में, छोटी भूमिकाएँ निभाईं। इस फिल्म में, उन्होंने एक भजन “माता तेरे चरणों में” भी गाया था। मास्टर विनायक की दूसरी हिंदी फिल्म, सुभद्रा (1946) की रिकॉर्डिंग के दौरान उनका संगीत निर्देशक “वसंत देसाई” से परिचय हुआ।

1948 में मास्टर विनायक की मृत्यु के बाद, संगीत निर्देशक गुलाम हैदर ने उन्हें एक गायिका के रूप में सलाह दी। उन्होंने लता दीदी (Lata Didi) को निर्माता “शशधर मुखर्जी” से मिलवाया, जो उस समय शहीद (1948) फिल्म में काम कर रहे थे, लेकिन मुखर्जी ने लता दीदी (Lata Didi) की आवाज को “बहुत पतली” कहकर खारिज कर दिया। नाराज गुलाम हैदर ने जवाब दिया कि आने वाले वर्षों में निर्माता और निर्देशक अपनी फिल्मों में गाने के लिए “लता के चरणों में गिरेंगे” और “उनसे भीख माँगेंगे”।

हैदर ने लता दीदी (Lata Didi) को पहला बड़ा ब्रेक फिल्म “मजबूर (1948)” में नाजिम पानीपति के गीत “दिल मेरा तोड़ा, मुझे कहीं का ना छोड़ा” के साथ दिया, जो उनकी पहली बड़ी सफलता वाली फिल्म थी। उनकी पहली बड़ी हिट फिल्मों में से एक “आयेगा आने वाला” थी, जो फिल्म महल (1949) का एक गीत था, जिसे संगीत निर्देशक खेमचंद प्रकाश द्वारा संगीतबद्ध किया गया था और अभिनेत्री मधुबाला द्वारा स्क्रीन पर लिप-सिंक किया गया था।

सितंबर 2013 में अपने 84वें जन्मदिन पर एक इंटरव्यू में, लता दीदी (Lata Didi) ने स्वयं घोषणा की, “गुलाम हैदर वास्तव में मेरे गॉडफादर हैं। वह पहले संगीत निर्देशक थे जिन्होंने मेरी प्रतिभा पर पूरा विश्वास दिखाया।” लता दीदी (Lata Didi) ने नरगिस और वहीदा रहमान से लेकर माधुरी दीक्षित और प्रीति जिंटा तक हिंदी सिनेमा की हर पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करने वाली हर प्रमुख नायिकाओं को अपनी संगीतमय आवाज दी है।

उनके गायन ने, महल (1949), बरसात (1949), मीना बाज़ार (1950), आधी रात (1950), छोटी भाभी (1950), अफसाना (1951), अंसू (1953), और अदल-ए-जहाँगीर (1955) जैसी व्यावसायिक फिल्मों में बहुत योगदान दिया। उन्होंने दीदार (1951), बैजू बावरा (1952), अमर (1954), उरण खटोला (1955), और मदर इंडिया (1957) जैसी फिल्मों में नौशाद के लिए विभिन्न राग-आधारित गीत भी गाए। संगीतकार नौशाद के लिए उनका पहला गीत “ऐ छोरे की जात बड़ी बेवफा” था, जो जी. एम. दुर्रानी के साथ एक युगल (duet) गीत था। शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने, बरसात (1949), आह (1953), श्री 420 (1955) और चोरी चोरी (1956) के लिए लता दीदी (Lata Didi) को चुना।

1957 से पहले संगीतकार एस. डी. बर्मन ने, साज़ा (1951), हाउस नंबर 44 (1955), और देवदास (1955) में अपने संगीत स्कोर के लिए लता दीदी को मुख्य महिला गायिका के रूप में चुना था। लेकिन, 957 में, लता दीदी और एस. डी. बर्मन के बीच एक दरार पैदा हो गई और उन्होंने 1962 तक फिर से उनकी रचनाएँ नहीं गाईं।

लता दीदी (Lata Didi) ने, “मधुमती (1958)” फिल्म के “आजा रे परदेसी” के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका (Best Female Playback Singer) का फिल्मफेयर पुरस्कार (Filmfare Award) जीता, जिसकी रचना सलिल चौधरी ने की थी। मदन मोहन के लिए, उन्होंने बागी (1953), रेलवे प्लेटफॉर्म (1955), पॉकेटमार (1956), मिस्टर लम्बू (1956), देख कबीरा रोया (1957), अदालत (1958), जेलर (1958), मोहर (1959), और चाचा जिंदाबाद (1959) जैसी फिल्मों में अभिनय किया।

1960, 70 और 80 के दशक में लता दीदी का गायन करियर | Singing Career of Lata Didi in the 1960s, 70s, and 80s

Lata-Didi

हम मुगल-ए-आजम (1960) के गीत “प्यार किया तो डरना क्या” को कैसे भूल सकते हैं। Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar (महान पार्श्व गायिका लता मंगेशकर) जी ने इस गाने को बहुत ही खूबसूरती से गाया है, और ये गाना आज भी सबके दिलों में बसा हुआ है। इसे नौशाद ने कंपोज किया था, और मधुबाला ने लिप-सिंक किया था। साथ ही, दिल अपना और प्रीत पराई (1960) के मेरे पसंदीदा गीतों में से एक “अजीब दास्तान है ये” भी लता दीदी (Lata Didi) ने बहुत खूबसूरती से गाया है। इसे शंकर जयकिशन ने कंपोज किया था और मीना कुमारी ने लिप-सिंक किया था।

लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) जी ने 1961 में बर्मन के सहायक जयदेव के लिए “अल्लाह तेरो नाम” और “प्रभु तेरो नाम” नामक दो लोकप्रिय भजन रिकॉर्ड किए थे। “बीस साल बाद” के लिए हेमंत कुमार द्वारा रचित गीत “कहीं दीप जले कहीं दिल” के लिए उन्हें 1962 में दूसरे फिल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

27 जनवरी 1963 को, भारत-चीन युद्ध की पृष्ठभूमि के खिलाफ, लता दीदी (Lata Didi) ने भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू की उपस्थिति में देशभक्ति पर गीत “ऐ मेरे वतन के लोगो” (literally, “Oh, People of My Country”) गाया था। सी. रामचंद्र द्वारा रचित और कवि प्रदीप द्वारा लिखित इस गीत के बारे में कहा जाता है, कि इसने प्रधानमंत्री की आंखों में आंसू ला दिए थे।

1963 में, लता दीदी (Lata Didi) ने एस. डी. बर्मन के साथ फिर से काम करना शुरू किया। इसके बाद उन्होंने आर. डी. बर्मन की पहली फिल्म छोटे नवाब (1961) और बाद में उनकी फिल्मों जैसे भूत बंगला (1965), पति पत्नी (1966), बहारों के सपने (1967) और अभिलाषा (1969) में गाया। उनके द्वारा “आज फिर जीने की तमन्ना है”, “गाता रहे मेरा दिल” (किशोर कुमार के साथ युगल गीत), गाइड (1965) से “पिया तोसे”, ज्वेल थीफ (1967) से “होठों पे ऐसी बात”, और तलाश से “कितनी अकेली कितनी तन्हा” जैसे कई लोकप्रिय गीत भी रिकॉर्ड किए गए है।

उन्होंने मदन मोहन के साथ अपना जुड़ाव भी जारी रखा और अनपढ़ (1962) से “आप की नज़रों ने समझा”, वो कौन थी? से (1964)”लग जा गले” और “नैना बरसे रिम झिम”, जहान आरा (1964) से “वो चुप रहें तो”, मेरा साया (1966) से “तू जहाँ जहाँ चलेगा” और चिराग (1969) से “तेरी आंखों के सिवा” जैसे सुंदर गाने शामिल थे। 1960 के दशक में लता दीदी (Lata Didi) के संगीत निर्देशक लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल जी के साथ जुड़ाव की शुरुआत हुई, जिनके लिए उन्होंने सबसे लोकप्रिय गीत गाए।

ऐसा कहा जाता है, कि उन्होंने 35 वर्षों की अवधि में संगीतकार जोड़ी के लिए 700 से अधिक गाने गाए, जिनमें से कई हिट हो गए। उन्होंने पारसमणि (1963), मिस्टर एक्स इन बॉम्बे (1964), आए दिन बहार के (1966), मिलन (1967), अनीता (1967), शागिर्द (1968), मेरे हमदम मेरे दोस्त (1968), इंतक़ाम (1969), दो रास्ते (1969) और जीने की राह सहित कई फिल्मों के लिए गाया। इसके लिए उन्हें उनका तीसरा फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।

उन्होंने मराठी फिल्मों के लिए कई पार्श्व गीत गाए और 1960 और 1970 के दशक के दौरान, उन्होंने विभिन्न बंगाली गाने भी गाए। उन्होंने 1960 के दशक में किशोर कुमार, मुकेश, मन्ना डे, महेंद्र कपूर और मोहम्मद रफ़ी के साथ युगल (duets) गीत रिकॉर्ड किए है। 1972 में मीना कुमारी की आखिरी फिल्म “पाकीजा” रिलीज हुई थी, जिसमें लता दीदी (Lata Didi) द्वारा गाए गए और गुलाम मोहम्मद द्वारा रचित “चलते चलते” और “इन्हीं लोगों ने” जैसे लोकप्रिय गाने थे।

उन्होंने एसडी बर्मन की आखिरी फिल्मों के लिए कई लोकप्रिय गाने रिकॉर्ड किए, जिनमें प्रेम पुजारी (1970) से “रंगीला रे”, शर्मीली (1971) से “खिलते हैं गुल यहां” और अभिमान (1973) से “पिया बीना” शामिल है। साथ ही मदन मोहन की आखिरी फिल्मों के लिए, जिनमें दस्तक (1970), हीर रांझा (1970), दिल की राहें (1973), हिंदुस्तान की कसम (1973), हंसते ज़ख्म (1973), मौसम (1975) और लैला मजनू (1976) के लिए भी कई लोकप्रिय गाने रिकॉर्ड किए हैं।

1970 के दशक में, लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) जी के विभिन्न गीतों को लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और राहुल देव बर्मन ने संगीतबद्ध किया था। अमर प्रेम (1972), कारवां (1971), कटी पतंग (1971), और आंधी (1975) सहित फिल्मों में राहुल देव बर्मन के साथ उनके द्वारा कई हिट गाने भी गाए गए हैं। ये दोनों गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी, आनंद बख्शी और गुलज़ार के साथ अपने गीतों के लिए जाने जाते हैं।

लता दीदी (Lata Didi) ने 1973 में, फिल्म परिचय के गीत “बीती ना बिताई” के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका (Best Female Playback Singer) का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (National Film Award) जीता। इसे आरडी बर्मन ने कंपोज किया था, और गुलजार ने लिखा था। 1974 में, उन्होंने फिल्म नेल्लू (Nellu) के लिए मलयालम गीत (Malayalam song) “कदली चेनकदली” भी गाया था। इसकी रचना सलिल चौधरी ने की थी और इसे वायलर रामवर्मा (Vayalar Ramavarma) ने लिखा था।

कल्याणजी आनंदजी द्वारा रचित कोरा कागज़ के गीत “रूठे रूठे पिया” के लिए उन्होंने फिर से 1975 में राष्ट्रीय पुरस्कार (National Award) जीता। उन्होंने 1970 के दशक के बाद से कई संगीत कार्यक्रमों का भी मंचन किया, जिसमें विभिन्न चैरिटी संगीत कार्यक्रम भी शामिल थे। 1974 में, उनका पहला संगीत कार्यक्रम रॉयल अल्बर्ट हॉल, लंदन (Royal Albert Hall, London) में था, और वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय थीं।

Lata-Mangeshkar

उन्होंने मीराबाई के भजनों का एक एल्बम, “चला वही देस” भी जारी किया, जिसे उनके भाई हृदयनाथ मंगेशकर ने संगीतबद्ध किया था। 1978 में, राज कपूर ने सत्यम शिवम सुंदरम का निर्देशन किया था, जिसमें लता दीदी (Lata Didi) ने मुख्य थीम गीत “सत्यम शिवम सुंदरम” गाया था जो साल का हिट गाना बन गया था।

1970 के दशक के अंत और 1980 के दशक की शुरुआत में, उन्होंने सचिन देव बर्मन के बेटे राहुल देव बर्मन, रोशन के बेटे राजेश रोशन, सरदार मलिक के बेटे अनु मलिक और चित्रगुप्त के बेटे आनंद-मिलिंद जैसे संगीतकारों के साथ काम किया। लता दीदी ने असमिया भाषा में भी कई सारे गाने गाए है। असमिया संगीतकार भूपेन हजारिका के निर्देशन में उन्होंने कई गाने गाए, रुदाली (1993) के गीत “दिल हुम हुम करे” ने उस वर्ष सबसे अधिक रिकॉर्ड बिक्री की थी।

1980 के दशक से, उन्होंने विभिन्न फिल्मों के लिए गाया, जिनमें कर्ज़ (1980), एक दूजे के लिए (1981), सिलसिला (1981), प्रेम रोग (1982), हीरो (1983), प्यार झुकता नहीं (1985), राम तेरी गंगा मैली (1985), नगीना (1986), और राम लखन (1989) शामिल हैं। संजोग (1985) का उनका गाना “झू झू झू यशोदा” उस समय हिट काफ़ी था।

1980 के दशक के अंत में, उन्होंने तमिल फिल्मों के लिए भी कई सारे गाने गाए। 1980 के दशक में लता दीदी की सबसे बड़ी हिट आशा (1980) में “शीशा हो या दिल हो”, कर्ज़ (1980) में “तू कितने बरस का”, दोस्ताना (1980) में “कितना आसान है” आस पास (1980) में “हम को भी गम”, नसीब (1980) में “मेरे नसीब में”, क्रांति (1981) में “जिंदगी की ना टूटे” एक दूजे के लिए (1981) में “सोलह बरस की” प्रेम रोग (1982) में “ये गलियां ये चौबारा”, अर्पण (1983) में “लिखनेवाले ने लिख डाले”, अवतार (1983) में “दिन महेन साल” हीरो (1983) में “प्यार करनेवाले” और “निंदिया से जगी” संजोग (1985) में “झू झू झू यशोदा”, मेरी जंग (1985) में “जिंदगी हर कदम”, यादों की कसम (1985) में “बैठ मेरे पास”, राम अवतार (1988) में “उंगली में अंगोती” और राम लखन (1989) में “ओ रामजी तेरे लखन ने” थीं।

लता दीदी (Lata Didi) के लिए बप्पी लहरी ने भी कुछ गाने तैयार किए थे जैसे, सबूत (1980) में “दूरियां सब मिटा दो” पतिता (1980) में “बैठे बैठे आज आई” समझौते में “जाने क्यूं मुझे” (1980), ज्योति (1981) में “थोड़ा रेशम लगता है” प्यास (1982) में “दर्द की रागिनी” और हिम्मतवाला (1983) में “नैनो में सपना” (किशोर कुमार के साथ युगल गीत)।

लता दीदी ने 1980 के दशक के दौरान राम तेरी गंगा मैली (1985) में रवींद्र जैन के लिए “सुन साहिबा सुन” शमा (1981) में “चांद अपना सफर” सौतेन (1983) में “शायद मेरी शादी” और “जिंदगी प्यार का” सौतेन की बेटी (1989) में उषा खन्ना के लिए “हम भूल गए रे” जैसे हिट गाने भी गाए।

जून 1985 में, यूनाइटेड वे ऑफ ग्रेटर टोरंटो (United Way of Greater Toronto) ने Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar (महान पार्श्व गायिका लता मंगेशकर) जी को मेपल लीफ गार्डन (Maple Leaf Gardens) में परफॉर्म करने के लिए आमंत्रित किया था। जहाँ ऐनी मरे (Anne Murray) के अनुरोध पर, लता दीदी (Lata Didi) ने अपना गीत “यू नीडेड मी (You Needed Me)” गाया था। इस कॉन्सर्ट में लगभग 12,000 लोगों ने भाग लिया, जिसने एक चैरिटी के लिए $ 150,000 जुटाए थे।

1990 और 2000 के दशक में लता दीदी का करियर | Lata Didi’s Career in the 1990s and 2000s

1990 के दशक के दौरान लता दीदी (Lata Didi) ने आनंद-मिलिंद, नदीम-श्रवण, जतिन-ललित, आदि जैसे विभिन्न संगीत निर्देशकों के साथ रिकॉर्ड किया। इसी दशक में उन्होंने हिंदी फिल्मों के लिए अपना खुद का प्रोडक्शन हाउस भी लॉन्च किया, जिसने गुलजार द्वारा निर्देशित फिल्म “लेकिन…” का निर्माण किया। उन्होंने “यारा सिली सिली” गीत के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका के लिए अपना तीसरा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी जीता, जिसकी रचना उनके भाई हृदयनाथ मंगेशकर ने की थी।

Singer-Lata-Mangeshkar

लता दीदी ने यश चोपड़ा के प्रोडक्शन हाउस “यशराज फिल्म्स” की लगभग सभी फिल्मों के लिए गाने गाए है। यहां तक कि ए आर रहमान ने भी इस दौरान उनके साथ दिल से… में “जिया जले” वन 2 का 4 में “खामोशियां गुनगुनाने लगिन”, पुकार में “एक तू ही भरोसा”, जुबैदा में “प्यारा सा गांव” और “सो गए हैं” जैसे कुछ गाने रिकॉर्ड किए थे।

1994 में, लता दीदी (Lata Didi) ने “श्रद्धांजलि – माई ट्रिब्यूट टू द इम्मोर्टल्स” को रिलीज़ किया। इस एल्बम की ख़ासियत यह थी, कि लता दीदी उस समय के अमर गायकों के कुछ गीतों को अपनी आवाज़ में प्रस्तुत करके उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करती थी। उन्होंने 1994 में, राहुल देव बर्मन के लिए आखिरी गाना 1942: ए लव स्टोरी में “कुछ ना कहो” गाया था।

1999 में, उनके नाम पर एक परफ्यूम ब्रांड “Lata Eau de Parfum” को लॉन्च किया गया था। उन्हें उसी वर्ष लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए ज़ी सिने अवार्ड (Zee Cine Award for Lifetime Achievement) से भी सम्मानित किया गया था, साथ ही 1999 में, लता दीदी (Lata Didi) को राज्यसभा के सदस्य के रूप में नामित किया गया था।

उन्हें 2001 में, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया। उन्होंने उसी वर्ष पुणे में मास्टर दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल की भी स्थापना की। इसका प्रबंधन लता मंगेशकर मेडिकल फाउंडेशन (Lata Mangeshkar Medical Foundation) द्वारा किया जाता था।

2005 में, उन्होंने “स्वरांजलि” नामक एक आभूषण संग्रह तैयार किया, जिसे एक भारतीय हीरा निर्यात कंपनी अडोरा (Adora) द्वारा तैयार किया गया था। संग्रह से पांच टुकड़ों ने क्रिस्टी (Christie)की नीलामी में £105,000 जुटाए, इन पैसों का एक हिस्सा 2005 के कश्मीर भूकंप राहत के लिए दान किया गया था।

2001 में, लता दीदी (Lata Didi) ने संगीतकार इलैयाराजा के साथ अपना पहला हिंदी गीत फिल्म लज्जा के लिए रिकॉर्ड किया। उन्होंने इससे पहले इलैयाराजा द्वारा रचित तमिल और तेलुगु गाने रिकॉर्ड किए थे। लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का गीत “वादा ना तोड़” फिल्म इटरनल सनशाइन ऑफ द स्पॉटलेस माइंड (2004) और इसके साउंडट्रैक में शामिल किया गया था। 21 जून 2007 को, उन्होंने सादगी एल्बम जारी किया, जिसमें जावेद अख्तर द्वारा लिखित और मयूरेश पई द्वारा रचित आठ ग़ज़ल जैसे गाने थे।

2010 में लता दीदी का करियर | Lata Didi’s Career in the 2010s

14 साल बाद, लता दीदी ने संगीतकार नदीम-श्रवण के बेवफा (2005) के लिए “कैसे पिया से” गीत रिकॉर्ड किया। 12 अप्रैल 2011 को, लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) जी ने “सरहदें: म्यूजिक बियॉन्ड बाउंड्रीज़” एल्बम जारी किया, जिसमें लता दीदी (Lata Didi) और मेहदी हसन का युगल गीत “तेरा मिलना बहुत अच्छा लगा” शामिल है। शमीर टंडन ने फिल्म सतरंगी पैराशूट (2011) के लिए एक बार फिर लता मंगेशकर जी के साथ “तेरे हसने साईं मुझे” गाना रिकॉर्ड किया। एक अंतराल के बाद, लता मंगेशकर जी पार्श्व गायन में वापस आ गयी और उन्होंने अपने स्टूडियो में डुन्नो Y2… लाइफ इज ए मोमेंट (2015), के लिए “जीना क्या है, जाना मैंने” गीत रिकॉर्ड किया।

28 नवंबर 2012 को, लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) जी ने मयूरेश पाई द्वारा रचित भजनों के एक एल्बम, स्वामी समर्थ महा मंत्र (Swami Samarth Maha Mantra) के साथ अपना खुद का संगीत लेबल, एलएम म्यूजिक (LM Music) लॉन्च किया। इस एल्बम में उन्होंने अपनी छोटी बहन उषा के साथ गाया है। 2014 में, उन्होंने एक बंगाली एल्बम, शूरोधवानी (Shurodhwani) रिकॉर्ड किया, जिसमें सलिल चौधरी की कविता शामिल है, जिसे पई ने भी संगीतबद्ध किया है। 30 मार्च 2019 को, लता दीदी (Lata Didi) ने भारतीय सेना और राष्ट्र को श्रद्धांजलि के रूप में मयूरेश पई द्वारा रचित गीत “सौगंध मुझे इस मिट्टी की” जारी किया।

लता मंगेशकर प्रोडक्शन | Lata Mangeshkar Production

प्रसिद्ध पार्श्व गायिका लता मंगेशकर (Legendary Playback Singer Lata Mangeshkar) जी ने चार फिल्मों का निर्माण किया है:

  • 1953 – वादळ (मराठी)
  • 1953 – झांझर (हिंदी), सी. रामचंद्र के साथ सह-निर्मित
  • 1955 – कंचन गंगा (हिंदी)
  • 1990 – लेकिन… (हिंदी)

लता मंगेशकर पुरस्कार और सम्मान | Lata Mangeshkar Awards and Honours

लता दीदी (Lata Didi) ने कई पुरस्कार और सम्मान जीते और उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • 2009 – एएनआर राष्ट्रीय पुरस्कार
  • 2007 – लीजन ऑफ ऑनर
  • 2001 – भारत रत्न, भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार
  • 1999 – पद्म विभूषण
  • 1999 – लाइफटाइम अचीवमेंट्स के लिए ज़ी सिने अवार्ड
  • 1999 – एनटीआर राष्ट्रीय पुरस्कार
  • 1997 – महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार
  • 1989 – दादा साहब फाल्के पुरस्कार
  • 1972, 1974 और 1990 – तीन राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार
  • 15 बंगाल फिल्म पत्रकार संघ पुरस्कार
  • 1959, 1963, 1966, और 1970 – चार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार।
  • 1993 – फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
  • 1994 और 2004 – फ़िल्मफ़ेयर विशेष पुरस्कार
  • 1984 – मध्य प्रदेश की राज्य सरकार ने लता मंगेशकर के लता मंगेशकर पुरस्कार की स्थापना की
  • 1992 – महाराष्ट्र राज्य सरकार ने भी लता मंगेशकर पुरस्कार की स्थापना की
  • 1969 – पद्म भूषण
  • 2009 – उन्हें फ्रांस के सर्वोच्च आदेश, फ्रेंच लीजन ऑफ ऑनर के अधिकारी के खिताब से नवाजा गया
  • 2012 – आउटलुक इंडिया के सबसे महान भारतीय सर्वेक्षण में उन्हें 10वें स्थान पर रखा गया था।

वह संगीत नाटक अकादमी (1989), इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, खैरागढ़ और कोल्हापुर में शिवाजी विश्वविद्यालय से मानद डॉक्टरेट की प्राप्तकर्ता भी हैं।

Leave a Reply